भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तो सुन लो पुकार ब्रज बसैया कन्हैया मेरे / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तो सुन लो पुकार ब्रज बसैया कन्हैया मेरे।
हजारों अर्जियां दरख्वास्त पेश कर दी हैं।
उन्हीं में पापों कि मिसलें साथ धर दी हैं॥
हुजूर जल्द मुकदमों का तपसीहा कर दो,
तभी है मुंसिफी जब दास को रिहा कर दो।
हो सदा जय-जय कार करुणा कन्हैया मेरे॥
मैं जग समुद्र में पहिले ही डूबा हूँ मगर,
बहा रहे हैं ये दृग ‘बिन्दु’ दूसरा सागर।
भरोसा अब तो है तरने का उन्हीं के बल पर,
कि जिनके नाम ने तेरा दिए पत्थर जल पर।
कर दो पल भर में पार जीवन कि नैया खेवैया मेरे॥