भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब दिल की तरफ दर्द की यलगार बहुत है / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब दिल की तरफ दर्द की यलगार बहुत है
दुनिया मेरे जख़्मों की तलबगार बहुत है

अब टूट रहा है मेरी हस्ती का तसव्वुर
इस वक़्त मुझे तुझ से सरोकार बहुत है

मिट्टी की ये दीवार कहीं टूट न जाए
रोको के मेरे ख़ून की रफ़्तार बहुत है

हर साँस उखड़ जाने की कोशिश में परेशाँ
सीने में कोई है जो गिरफ़्तार बहुत है

पानी से उलझते हुए इंसान का ये शोर
उस पार भी होगा मगर इस पार बहुत है