भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब नहीं / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमने कहा था मुझे परेशां करना बंद करो
मैंने अपने होने की ज़रा सी सरसराहट भी नहीं रखी तुम्हारे जीवन में
तुम्हारी हर बात मानना
मेरी पूजा में शामिल है
जैसे
साँस लेना जीने में।