भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब भी बाक़ी है / अनूप अशेष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तो यह मत कहो
कि तुममें रीढ़ नहीं है

      तुम में ज़िन्दा
      अब भी
      पतली मेंड़

गई जोत में
फिर भी आधी अब भी बाकी है
ढेलों में साँसों की ख़ातिर
घर की चाकी है

      एहसासों के हर किवाड़ को
      रखना
      मन में भेड़

सुलगा कर
कोनों में रखना देहों की तापें
खुद से दूर न होंगी
अपनी पुश्तैनी
नापें

      बिस्वे होंगे बीघे होंगे
      खेती
      अपनी छेड़