भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब भी / अवधेश कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे अब भी प्यार करना चाहिए ।
मुझे अब भी प्यार करना चाहिए ।
मैं अपने आप को कोंचता हूँ

मुझे अब भी अच्छी चीज़ों में यक़ीन
रखना चाहिए
मैं अब भी मानता हूँ कि
मुझे अब भी अच्छी चीज़ों में यक़ीन
रखना चाहिए

मुझे अब भी स्वप्न देखने चाहिए
मैं जानता हूँ कि
मुझे अब भी स्वप्न देखने चाहिए ।

मुझे अब भी कोशिश करनी चाहिए
मुझे याद है कि
मुझे अब भी कोशिश करने चाहिए ।

मुझे अपने भविष्य को अब भी
ऐसे देखना चाहिए
जैसे कि मेरे पिता ने देखा था ।