भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अब ये गीत तुम्हारे / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अब ये गीत तुम्हारे
जिनमें सँजो दिए हैं मैंने अपने सपने सारे

जब भी आशा की लौ खोयी
जब भी जागी सुधियाँ सोयी
जब भी चोट लगी है कोई
मैंने इन्हीं सुरों में अपने मन के भाव उतारे

चाहो तो अपना लो इनको
चाहो तो ठुकरा दो इनको
गाकर भले भुला दो इनको
किन्तु चमकते सदा रहेंगे ये ज्यों नभ के तारे

जब जैसा कुछ जी में आया
मैंने इन गीतों में गाया
बहुत यही, स्वर तुमको भाया
अब यह खेल समाप्त हो चला, क्या जीते या हारे !

अब ये गीत तुम्हारे
जिनमें सँजो दिए हैं मैंने अपने सपने सारे