भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अब लकीरों की तसव्वुर से ठना करती है / रवि सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब लकीरों की तसव्वुर[1] से ठना करती है ।
अब बमुश्किल तिरी तस्वीर बना करती है ।

साँस लौटी है थके जिस्म की ख़बरें लेकर
काँपती लौ भी अँधेरे की सना[2] करती है ।

रौशनी बन के तिरी याद तो आती है मगर
हाफ़िज़े[3] में मिरे कोहरे से छना करती है ।

पेड़ बूढ़े थे तो दमभर न रुकी थी आँधी
सब्ज़ मौसम से उलझने को मना करती है ।

रूह रूपोश[4] हुई दैर[5] से कुछ शह पाकर
अब इबादत के सभी काम अना[6] करती है ।

शब्दार्थ
  1. कल्पना (imagination)
  2. प्रशंसा (praise)
  3. स्मरण-शक्ति (memory, capacity to remember)
  4. अदृश्य, फ़रार (hidden, absconding)
  5. पूजागृह (temple, place of worship)
  6. स्व, ख़ुदी (self, ego)