भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब वो मेरा जहाँ नहीं / जया झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब वो मेरा जहाँ नहीं,

ज़मीं नहीं आसमाँ नहीं।


कुछ बदला हो ना बदला हो

मेरे लिए वो शमाँ नहीं।


हाँ बीता सारा जीवन पर

मन कहता है अब वहाँ नहीं।


चलना है चलना ही है

चलना पड़ता है कहाँ नहीं।