भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब हम गीत नहीं गाते हैं / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप-छाँव के
अब हम गीत नहीं गाते हैं
 
महानगर की इस बस्ती में
बंद खिड़कियाँ-दरवाजे हैं
बड़े बेसुरे
अंधे राजा के घर में
बजते बाजे हैं
 
गूँज उन्हीं की
गली-गली में हम पाते हैं

मीनारों के घेरे में
बस सूरज के साये होते हैं
राजभवन के घने उजाले
घर-घर
अँधियारे बोते हैं
 
सडक-दर-सडक
भटक-भटक हम बौराते हैं
 
पोथी में हम
फूलों का इतिहास बाँचते
वहीं पुरानी पगडंडी के
लिखे हैं पते
 
सपनों में हम
उन्हें देखकर मुँह बाते हैं