भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब हम हर के दास कहाके / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब हम हर के दास कहाके।
हरहिं छोड़ जांचे नहिं ओरों नाम कल्प तरू ताके।
दाता धनी वनी सबही विध सब पूजी अवलोके।
झाबर झीला मत नहिं मनुवां गंग तरंगन हांके।
कौन सहे उपहास जगत की मद हुंकार भमाके।
अब तो भये गुलाम राम के कहियत टेर सुनाके।
दुरमत कहें बनाई दुरमती है दुविदावर जाके।
जुड़ी पटौ लिखौ रघुवर को और देव नहिं लाके।