भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभियोगी अभियुक्त हो गए / आदर्श सिंह 'निखिल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभियोगी अभियुक्त हो गए

राजनीति का उड़नखटोला
जबसे चढ़ बैठे बनवारी
अंग्रेजी फूलों से महकी
गेंदा बेला की फुलवारी
भँवरे जैज बजाते फिरते
राग भैरवी मुक्त हो गए।

सारे गिरगिट प्रतिभागी थे
रंग बदलने का आयोजन
बनवारी काका भी आये
करके जनता का अभिवादन
सत्ता की गुंजाइश देखी
सारे दांव प्रयुक्त हो गए।

सांप नेवला एक हुए हैं
एक हो गए काबा काशी
अभिशापों के बोझ तले ही
राम हुए फिर से वनवासी
किये पांडवों ने समझौते
कौरव सँग संयुक्त हो गए।