भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभिलाषा / कुसुम ठाकुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभिलाषा छल हमर एक,
करितौंह हम धियासँ स्नेह ।
हुनक नखरा पूरा करैमे,
रहितौंह हम तत्पर सदिखन।
सोचैत छलहुँ हम दिन राति,
की परिछब जमाय लगाएब सचार।
धीया तँ होइत छथि नैहरक श्रृंगार,
हँसैत धीया कनैत देखब हम कोना।
कोना निहारब हम सून घर,
बाट ताकब हम कोना पाबनि दिन।
सोचैत छलहुँ जे सभ सपना अछि,
ओ सभ आजु पूरा भs गेल।
घरमे आबि तँ गेलीह धीया,
बिदा नहि केलहुँ, नञि सुन्न अछि घर ।
एक मात्र कमी रहि गेल,
सचार लगायल नहिये भेल।।