भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी खिलना बाकी है / अभि सुवेदी / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लगता है
शब भर मेँ
किसी ने कुरेद दिया है आफताब को ।
जाने क्योँ
आज सहर होते होते
फेँक दिया है किसी ने सूरज को
आब-ए-मुर्दा-ए-राह पर ।

कहते हैँ
यह तो सिर्फ आगाज है।

नूर-ए-आफताब को अब फैलकर
पहुँचना है हरेक की आँखोँ तक।
आफताब – कल सोचा हुवा पर देख न पाया हुवा मंजर को
अब बेपर्दा होना है ।
एहसास-ए-आफताब को पिघलाने के लिए
दौडते हुए बाहर आ रहा है
गुसलखाने में बादल बन छुपा हुवा वक्त।

कहते हैँ
तूम आ तो पहुँचे हो
मगर
अभी खिलना बाकीँ है ।