भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी बचे हैं हम / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे सुनो! बन्दूक चलाओ
अभी बचे हैं हम

सौ दो सौ
लोगों का मरना
भी क्या है मरना
लाशों के पहाड़ के ऊपर
बहे खून झरना
ऐसा कुछ माहौल बनाओ
अभी बचे हैं हम

गोली बम
बंदूकों से तुम
कब तक मारोगे
थक जाओगे बंधू तो फिर
शायद हारोगे
सीधे ऐटम बम गिरवाओ
अभी बचे हैं हम

गाय, भैंस,
बकरे को तो हम
रोज़ चबा जायें
अच्छा होगा एक दूसरे
को अब हम खायें
सुनो! हमें जल्दी निपटाओ
अभी बचे हैं हम
अरे सुनो! बन्दूक चलाओ
अभी बचे हैं हम