भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी शुऊर ने बस दुखती रग टटोली है / मनमोहन 'तल्ख़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी शुऊर ने बस दुखती रग टटोली है
अभी तो ज़िंदगी बस नींद ही में बोली है

किसी ख़याल ने शब को जो आँख खोली है
दुखों की ओस में दिल ने नवा भिगो ली है

पड़ी नहीं है तुम्हें वक़्त की अभी तक मार
भुगत सकोगे भी क्या तुम ज़बाँ तो खोली है

मज़ाक बस ये किया मेरे साथ फ़ितरत ने
मता-ए-दिल भी मेरी बस नज़र में तोली है

कभी इस अपने तसव्वुर पे आँख भी भर आई
क़ज़ा के दोश्ज्ञ पे जैसे बक़ा की डोली है