भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमवा के लागेला टकोरवा रे संगिया / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अमवा के लागेला टकोरवा रे संगिया
गूलर फरे ले हड़फोर
गोरिया के उठेलाहा छाती के जोबनवाँ
पिया के खेलवना रे होइ

भावार्थ

'आमों के टिकोरे लग गए, ओ संगी ! गूलर भी हड्डियों को फोड़कर फलों से लद गए हैं गोरी के उरोज भी उभर आए हैं अरे ये तो प्रियतम के लिए खिलौने बनेंगे !'