भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमावस / अंशु हर्ष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुले आसमान के नीचे बैठ
अभी ख्याल आया
तुम्हें कहुँ ....
मुझे आज का चांद चाहिए
तलाशा आसमान में
फिर याद आया
आज अमावस है ....
बस ऐसा ही होता है अक्सर ....
हर चाहत के साथ ...