भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमावास्या घोर तममयी देख / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग भीमपलासी-तीन ताल)
 
अमावास्या घोर तममयी देख, न हो‌ओ तनिक निराश।
होगा निश्चय ही ज्योतिर्मय सूर्योदय, कर तमका नाश॥
मत घबरा‌ओ, देख घोर घन वर्षा-झंझा-विद्युत्पात।
होगा नभ निर्मल-‌उज्ज्वल, सुरभित-मृदु-मन्द बहेगा बात॥
मत भय करो, देख क्षुधोदधिके भीषण उाल तरंग।
ललित लहरियाँ शान्त पुनः दीखेंगी, बदलेगा यह रंग॥
मत हो‌ओ उद्विग्र, देखकर घोर ग्रीष्मका भीषण ताप।
बरसेगी शीतल जल-धारा, हर लेगी सारा संताप॥
प्रलय भयंकर है, बस नव मधुमय सर्जनका गोपन रूप।
छिपे हँस रहे इसमें नित नव लीलामय रसराज अनूप॥
भीषण-सुन्दर प्रलय-सृजनमें एक पूर्ण वे ही हैं नित्य।
सबमें मञ्जुल दर्शन उनका, यही देखना-पाना सत्य॥