भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमीरी / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छात माथै
चढण सारू
पैड़ी बणवावणी कै लगावणी
कोई अमीरी कोनी
पण चूल्है माथै पग मेल'र
हारड़ी पर
हारड़ी सूं लंफ'र
रसोवड़ी पर
अर रसोवड़ी सूं मंडेरी पर टांग घाल'र
बरसां तक छात माथै चढणो ई
गरीबी में कोनी गिणीजै।