भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अम्माँ, मुझे उड़ाओ / रामसिंहासन सहाय 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अम्माँ, आज लगा दे झूला,
इस झूले पर मैं झूलूँगा!
इस पर चढ़कर ऊपर बढ़कर
आसमान को मैं छू लूँगा!

झूला झूल रही है डाली
झूल रहा है पत्ता-पत्ता,
इस झूले पर बड़ा मजा है
चल दिल्ली, ले चल कलकत्ता।

झूल रही नीचे की धरती
उड़ चल, उड़ चल, उड़ चल,
बरस रहा है रिमझिम रिमझिम
उड़कर मैं छू-लूँ दल बादल।

वे पंछी उड़ते जाते हैं
अम्माँ तुम भी मुझे उड़ाओ,
पीगें मेरे सुगना कूटी
मेरे पिंजड़े में आ जाओ।

आओ झूलूँ, तुम्हें झुलाऊँ
नन्हे को मैं यहीं सुलाऊँ,
आ जा निंदिया, आ जा निंदिया
तुम भी गाओ मैं भी गाऊँ।

यह मूरत चुनमुनिया झूले
जंगल में ज्यों मुनिया झूले,
मेरे प्यारे तुम झूलो तो
मेरी सारी दुनिया झूले!

-साभार: बालसखा, सितंबर, 1939, प्रथम पृष्ठ