भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अम्मा के व्रत-उपास / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पता नहीं कब की हैं बातें
  अम्मा के व्रत-उपास
 करवा-नवरातें
 
नखत-छिपे
तुलसी पर रोज़ दियाबाती
पुरखों की पोथी में
सपनों की पाती
 
पीपल के आसपास
  धूप की कनातें
पता नहीं कब की हें बातें
 
देवी के चौरे पर
चावल के दाने
अँजुरी में फूल
और दूधिया मखाने
 
होली-दीवाली की
मीठी सौगातें
पता नहीं कब की हैं बातें
 
आँगन-दालानों में
सतिये औ' छापे
पास के शिवाले के
शंख औ' पुजापे
 
चहक रहीं छत पर
गौरैया की पाँतें
पता नहीं कब की हैं बातें