भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अयलै’समय ई कठिन दुरजरूआ / चन्द्रनाथ मिश्र ‘अमर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अयलै’ समय ई कठिन दुरजरूआ
बचतै’ न एहि बेर लाज,
हे बाबा! बैसल झखै’ छै’ समाज।
कखनहु कऽ उमडै़’ सघन घन करिया,
उघने फिरै, पवन सन भरिया,
सरिया कऽ चाहै’ डुबादी ई दुनिया,
करतै’ तखन की स्वराज,
हे बाबा! बैसल झखै’ छै’ समाज।
बहुतो पड़ल जे करत सरकारे,
कोखो प्रकारे ने पारे उतारै,
ने बीचे मे बूडै’ जहाज,
हे बाबा ! बैसल झखै’ छै समाज।