भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अयलै ने हमर रंग रसिया हो रामा / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अयलै ने हमर रंग रसिया हो रामा, ने अयलै पतिया हो रामा
अपने ने आयल संदेश ने भेजल, कठिन कठोर परदेशिया हो रामा
हम विरहिन दर्शन बिनु व्याकुल कोना, काटब दिन रतिया हो रामा
हमरो सँ नीक भोग कुबजी के, निसि दिन करय शयनमा हो रामा