भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अयोध्या-1 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अयोध्या में मिलती है
टिकुली और सेनुर
टिकुली से झाँकती है
सीता की मुस्कान
सुहागिनें करतीं हैं
परिक्रमाएँ
 
अटल सुहाग के वास्ते
मत्तगजेन्द्र के पास
औरतें मांगती हैं
मांग की लाली

मुस्कराती हैं सीता
मंद-मंद
उनकी मुस्कान में
छिपी है अयोध्या ।