भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अयोध्या-4 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अयोध्या में गर्म हवाएँ चलती हैं
बिल्कुल गर्म
जेठ की दुपहरी की तरह
 
तपती है अयोध्या
आस्था की आँधी मे
उड़ गया है सब कुछ
ज़िद की बुनियाद पर
 
बनते हैं मंदिर यहाँ
बनती है मस्जिद यहाँ
कराहती है सरयू
आकंठ प्यास मे डूबी

उसकी गोद मे निढाल हैं
लू खाए राम ।