भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरसे से / अशोक कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गेहूँ के दाने
सालों से कहाँ देखा
आटे छोड़ कर

धान कहाँ देखा
चावल बदल-बदल कर

ज्वार-बाजरे में
फर्क भी कहाँ पता
सिर्फ इसके कि
वे कोई युग्म पद हैं

बैल कहाँ देखे
खेत में

किसान कहाँ देखा
अरसे से
सिवा इसके कि
कोई बुरी ख़बर थी उनकी
टी वी पर!