भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे अरे सखी बार बार छि छि / काजी नज़रुल इस्लाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे अरे सखी बार बार छि छि
ठारत चंचल अँखिया साँवलिया।
दुरु दुरु गुरु गुरु काँपते हिया ऊरु
हाथ से गिर जाए कुमकुम थालिया।।
आर न होरी खेलबो गोरी
आबीर फाग दे पानी में डारी हा प्यारी---
श्याम कि फागुआ लाल की लगुआ
छि छि मोरी शरम धरम सब हारी
मारे छातिया मे कुमकुम बे-शरम बानिया।।