भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे आवइंकहिन ते सावन मा / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे आवइं कहिन तै सावन मा ढुरि लागइ कजरवा हो
ढुरि लागइ कजरवा गालन मा ढुरि लागइ कजरवा