भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे ए मियाँ बँदरे, सहानी नइया लागी / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे ए मियाँ बँदरे[1] सहानी[2] नइया[3] लागी।
कोठे चढ़ि अम्माँ देखे जी, सहाना माली आया।
सहाना सेहरा लाया रे॥1॥
अरे ए मियाँ बँदरे, नवेली नइया लागी।
अरी ए खेलवड़िये[4] सहानी नइया लागी॥2॥
कोठे चढ़ि दादी देखें जी सहाना दरजी आया।
अरे ए मियाँ बँदरे, सहाना जोड़ा लाया रे, सहाना जोड़ा लाया॥3॥
कोठे चढ़ि नानी देखें जी, सहाना तँमोली आया जी।
सहाना बीड़ा लाया जी, सहाना बीड़ा लाया।
अरे ए मियाँ बँदरे, सहाना बीड़ा लाया॥4॥
कोठे चढ़ि अम्माँ देखें जी, सहाना डोला आया।
सहाना डोला आया जी, सहानी लाड़ो आई।
अरी ए मियाँ बँदरे, सहानी नइया आई॥5॥

शब्दार्थ
  1. दुलहा, बन्ना
  2. लाल रंग की, राजसी
  3. नाव
  4. खिलाड़ी