भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अरे कच्ची सुपारी मां / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे कच्ची सुपारी मां रस नहि आय छैला तोरी जवानी
छैला तोरी जवानी मां रस नहि आय- छैला तोरी जवानी