भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अरे कुंअना तौ संतन की / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे कुंअना तौ संतन की कौनउ मरै सुघर पनिहार
अरे सांकर मुख बावली कि सिढ़िया रतन जड़ाव
उतर के पानी पिउ लेउ कि जिउ की जलन जुड़ाय
अरे कुंअना तो संतन की कोनउ भरै सुघर पनिहारि