भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे जीजा बर जाये तौरौ होरा / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे जीजा बर जाये तौरौ होरा।
मेरी बाँड़ बर गई रे।
काँ गई तीं चना भाजी लैवे काँ गई ती।
रामकली ने कयीती सो लखन समधी के खेत गई ती।
सो होरा मोरा कछु नई मिले
मोरी बाँड़ बर गई।
अरे जीजा बर जायें तोरौ होरा
मोरी बाँड़ बर गई।