भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे बरसन लागे बुंदिया चला भागा पिया / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे बरसन लागे बुंदिया चला भागा पिया,

अरे घूंघटा भीगे तो भिजन दे अरे अंखिया ले चल बचाई पिया,

अरे नथ भीजे तो भीजन दे...अरे होंठवां ले चल बचाई पिया

अरे चोलीया भीजे तो भीजन दे अरे जुबना ले चल बचाइ पिया.

अरे लहंगा भीजे तो भीजन दे...अरे जंघिया ले चल बचाइ पिया