भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे भैया रघुबीर भात सवेरे ल्याइयो / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे भैया रघुबीर भात सवेरे ल्याइयो
मेरे सीस में किलफां ल्याइयो, मेरा टीका रतन जड़ाइयो
गले को ल्याइयो जंजीर भारत सवेरे ल्याइयो
मेरे हाथ में दस्तबन्द ल्याइयो, मेरी चूड़ियां रतन जड़ाइयो
गले को ल्याइयो जंजीर भारत सवेरे ल्याइयो
मेरे पैरों में पायल ल्याइयो, मेरे बिछवे रतन जड़ाइयो
गले की ल्याइयो जंजीर भारत सवेरे ल्याइयो
मेरे अंग ने साड़ी ल्याइयो, मेरी चुन्दड़ी को गोरखरू लगाइयो
गले को ल्याइयो जंजीर भारत सवेरे ल्याइयो