भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे मन चेतत काहे नाही / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे मन चेतत काहे नाहीं
काम क्रोध लोभ मोह में,
खोवत जन्म वृथा ही। अरे मन...
झूठो यह संसार समन सम,
उरझि रहौ ता माही। अरे मन...
रे मूरख सिया राम भजन बिन,
शुभ दिन बीते जाहीं। अरे मन...
राम नाम की सुध न लेत हो,
विष रस चाखन चाही। अरे मन...
अजहूं चेत रहौ मन मेरो,
फिर पीछे पछता ही। अरे मन...
कंचन कुंअरि थकत भई रसना,
बकत-बकत तो पाही। अरे मन...