भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे मेरा अमर उपावणहार रे / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे मेरा अमर उपावणहार रे।
खालिक आशिक तेरा॥टेक॥

तुमसूँ राता तुमसूँ माता।
तुमसूँ लागा रंग रे खालिक॥१॥

तुमसूँ खेला तुमसूँ मेला।
तुमसूँ प्रेम-सनेह रे खालिक॥२॥

तुमसूँ लैणा तुमसूँ दैणा।
तुमहीसूँ रत होइ रे खालिक॥३॥

खालिक मेरा आशिक तेरा।
दादू अनत न जाइ रे खालिक॥४॥