भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे सुनो तो / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे सुनो तो
इस लड़की ने
नया-नया आकाश छुआ है
 
देखो,
दमक रहा सूरज
इसकी आँखों में
इंद्रधनुष की पगडंडी
इसकी साँसों में
 
अभी उगा
इसके सीने में
फागुन का पहला अँखुआ है
 
देह-राग की इसने सुनी
अभी वंशी-धुन
दुआ -
न व्यापें इसे
कोई भी जग के अवगुन
 
गली-मोहल्ले के
हर बच्चे की
यह लड़की सगी बुआ है
 
इसके माथे
कल सुहाग का टीका होगा
दुक्ख न भोगे
जो इसकी मां ने है भोग
 
वैसे अबका वक्त
साधुओ
काफी कुछ तीता-कडुआ है