भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अर्घ्य दे रही / गुलाब सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह
शाख पर बैठी श्यामा
नाम पुकार रही डर-डर के।

अर्घ्य दे रही अँजुरी छलके
अधर हिल रहे हल्के-हल्के

भीगे केश
सिहरते कंधे
धुएँ उठ रहे धूप-अगर के।

देह, कथा-सी, रूप, आरती
उठती बाँहें पुष्पहार-सी।

साज सिंगार
प्यार मनुहारों
पूजा बने पड़ाव उमर के।

झुकी हुई टहनी की चिड़िया,
तुमने कैसी सुबह कर दिया!

सारे फूल
फूल लगते
जैसे बेदाग किसी चूनर के।