भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलंकार / संजीब कुमार बैश्य / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवनरहित पड़े हुए हैं शरीर
सीमाओं पर
और उनसे दूर यहाँ-वहाँ

क्या यही है
आनन्द और शोक
दुनिया के आलंकारिक नियम?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब अँग्रेज़ी में मूल कविता पढ़िए
Rhetoric

Bodies, lying lifeless
On borders, and beyond
Are counted
To rejoice, or mourn
And rhetoric rules the world.

–Sanjib Kumar Baishya