भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलगनी पर धूप के टुकड़े / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अलगनी पर
धूप के टुकड़े टँगे हैं
कुछ पराये-अज़नबी हैं
             कुछ सगे हैं
 
ओस-भीगे
और अलसाये सबेरे
बीच की दीवार से
लटके अँधेरे
 
आँख-मींचे देखते हैं
           अधजगे हैं
 
छाँव में लेटे हरेपन
काँपते हैं
रात-दिन की दूरियों को
नापते हैं
 
कुछ खुले हैं
  और कुछ चेहरे रँगे हैं