भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलग अलग इकाइयां / सईददुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुब्ह से मैं उस घड़ी की टिक टिक सुन रहा हूँ
जो दीवार से अचानक ग़ाएब हो गई है
लेकिन हर घंटे के इख़्तिताम पर
अलार्म देने लगती है
और फिर टिक टिक टिक
कभी कभी से टिक टिक
मुझे अपने सीने में सुनाई देती है
कभी कलाई की नब्ज़ में
फिर तो जिस चीज़ को उठाकर कान से लगाता हूँ
वो टिक टिक करने और अलार्म देने लगती है
अचानक मैं अपने अक़ब की दीवार को देखता हूँ
वहाँ मुझे ये घड़ी
दीवार पर औंधी चिपकी दिखाई देती है
सामने की दीवार से ये अक़ब की दीवार पर कैसे आ गई
और उस की सूइयाँ और डायल दीवार से चिपक कैसे गए
जैसे उस वक़्त दीवार के उस पार के लिए हो
मैं बराबर के कमरे में जाता हूँ
अब मुझे वक़्त दिख रहा है
लेकिन घड़ी ग़ाएब है
अब न उस की टिक टिक है न अलार्म
मैं ने चाहा कि चीज़ों को छू कर देखूँ
ठीक उस वक़्त मुझे अंदाजा हुआ
मैं चीज़ों को देख सकता हूँ
छू नहीं सकता
इस कमरे में तो मैं ख़ुद उल्टी हुई घड़ी हूँ
ये कमरा और वो कमरा
दो अलग-अलग इकाइयाँ हैं
उन्हें एक नहीं किया जा सकता
बस उस कमरे में थोड़ी देर के लिए झाँका जा सकता है
मैं वास अपने कमरे में आ जाता हूँ
वहाँ जहाँ मैं हर चीज़ को छू सकता हूँ
और हर चीज़ में वक़्त की टिक टिक सुन सकता हूँ
चाहे सामने घड़ी हो
या न हो