भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलग बात है कच्चे घर की / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अलग बात है कच्चे घर की
गैयाँ भैंसें ढिग गोबर की

दूद दई नेंनू के लोंदा
मठा महेरी घी मईयर की

डुबरी लपटा खिचरी दरिया
अंगा गकरियां पनटिक्कर की

जुआँ जोत बैलन की जोड़ी
धमनी गड्डी हर बक्खर की

गिल्ली डण्डा गेंद कबड्डी
अस्टा चंगा गल चौपर की

सब ऋतुअन की बात अलग है
रात भुँसरा साँझ दुफर की