भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अवगति की गति रहत नियारी / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अवगति की गति रहत नियारी।
नहिं पानी नहिं पवन संचरै नहिं वह जोत काल अंधियारी।
नहिं झनकार होत अनहद की नहिं पावत उनमुनि की तारी।
जहलों जीव ब्रह्म की रचना लागी काल-कर्म की बारी।
इहि सुभ-असुभ गत स्वासा वास आस गति मन की डारी।
जूड़ीराम शब्द गति दरसे है सतसंग विवेक विभारी।