भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अवबोध / श्रीकान्त जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन एक और अखण्ड उपस्थिति है
पर मृत्यु-खंडित है आदमी।
उसने जब-जब चुनौती दी मृत्यु को
वह आदमीयत के पक्ष में खड़ा हो गया।
आदमी मरता रहता है
आदमीयत चलती रहती है
समय को शताब्दियों तक महकाती
काल-देह पर चलाती
अलक्ष्य दराँती।