भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अवसादों के पार / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उदासीन
लम्हों का मुँह
कुछ उतरा-उतरा है
अभी यहाँ से बच्चा कोई
हँस कर गुज़रा है

सुना नहीं
तुमने क्या
जब ये हवा खिलखिलाई
प्यार भरी बदली थोड़ा-सा
पास खिसक आई

सन्नाटे का मौन तोड़ कर
कलरव बिखरा है

खिड़की खोलो
बाहर झाँको
रंगों को देखो
नई डाल पर बैठी
नई उमंगों को देखो

अवसादों के पार, ख़ुशी का
आलम पसरा है