भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अशफाकउल्ला खाँ / चन्द्रप्रकाश जगप्रिय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोलोॅ अशफाकउल्ला खाँ
अंग्रेज मूसोॅ लेॅ जे म्यां
काकोरी के रेल डकैती
अंगरेजो ठो गेलै चेती।

बदली-बदली भेष बनाय
अशफाकउल्ला जन्नें जाय
राजस्थान, बिहारो तक
अंगरेजोॅ केॅ हुएॅ नै शक।

लेकिन दोस्त ही दुश्मन भैलै
जे कारण सें ऊ पकड़ैलै
माफी के नै कोय फिकिर
लटकी गेलै फाँसी पर।

वीर शहीदोॅ में के, हाँ
बोलोॅ असफाकउल्ला खाँ।