भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अशरण-शरण राम / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अशरण-शरण राम,
काम के छवि-धाम ।

       ऋषि-मुनि-मनोहंस,
       रवि-वंश-अवतंस,
       कर्मरत निश्शंस,
       पूरो मनस्काम ।

जानकी-मनोरम,
नायक सुचारुतम,
प्राण के समुद्यम,
धर्म धारण श्याम ।