भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असम्भव लगता / अमित कल्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असम्भव
लगता
कह पाना
 
यूँ मानो
अपने आपको
दोहराता हुआ
देह से भिन्न
कोई आस्वादन,

सत्य के
अनुकरण में
क्या इतना कुछ
काफी नहीं,

या फिर
इसका उल्टा
साल दर साल

किसी का
अनुयायी
बने रहना
शायद
असम्भव ही।