भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असह है, आह ! / महेन्द्र भटनागर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असह है, आह!
प्रीति का निर्वाह —

छ्ल-छदम मय,

मिथ्या … भुलावा
झूठ … मायाजाल!

तब यह ज़िंदगी —
गदली - कुरूपा अति भयावह

धधकता दाह!