भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असांजा पोयां / कृश्न खटवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असांजा पोयां
जॾहीं
असांजे पुटनि ऐं धीअरुनि
खां सुवालु पुछन्दा,
असां जा वॾा केरु हुआ?
कहिड़ा हुआ?
असां जा ॿार
सोच में ॿुडी
भरियल मन सां जवाबु ॾीन्दा
असां जा वॾा
अलाए कहिड़े देस खां
आया हुआ।

भासन्दो हो
राह भुलियल हुआ,
ॾींहुं ऐं रात
कुझु ॻोल्हीन्दा रहन्दा हुआ
जो संदनि आस-पास न हो।
सदा ॻोल्हीन्दा हुआ
पर कुझु न पाईन्दा हुआ।

असांजा वॾा।
रेति मां/जुड़ियल हुआ
छुहण सां/भुरन्दा हुआ
बिना पाडुनि/ॿूटा हुआ।
तपति में सुकन्दा हुआ,
वर्षा में छणिबा हुआ
बे रोशन तारा हुआ,
ऊन्दाहे आकास में लटिकियल।
ॻाईन्दा हुआ
त रुअन्दा हुआ।
खिलन्दा हुआ
त पाॻल लॻन्दा हुआ।

असां जा वॾा
पंहिंजो पाण खे
सुञाणी न सघिया।
ऐं न आस-पास सां
हिकु थी सघिया।
नओं ॾिसन्दे
पुराणो याद ईन्दो होनि
वेचारा,
पंहिंजो पाा बिना जीअन्दा हुआ।
खोहियल माज़ी सारीन्दे,
मुस्तक़िबिल ॻोल्हे न सघन्दा हुआ।

असांजा वॾा
गूंगा हुआ,
संदनि ज़बान
किथे किरी पेई हुई
संदनि मिलण विछुड़ण जा गीत,
वक़्त जी रेति में
दफ़नायल हुआ।

असांजा वॾा
वेचारा,
अखियुनि हून्दे अंधा हुआ,
हू जो पसंदा हुआ
उहो हुते नहो,
ऐं जो संदनि सामुहूं हो,
ॾिसी न सघन्दा हुआ।
उहे असां जा वॾा
तव्हां जा वॾा,
अलाए केरु हुआ।
न हुन देस जा
न हिन देस जा।
ज़िंदा हून्दे बि
मुर्दा लॻन्दा हुआ।

हू जो लिखी विया,
तव्हीं पढ़ी न सघन्दा,
संदनि रचियल गीत
तव्हां ॻाए न सघन्दा।

लॻन्दो आहे,
न हू
तव्हां जा वॾा हुआ
न तव्हीं
संदनि पोयां आहियो।

(हिक डिघी सांति- 15.2.86)